रोमांटिक 30+ सुहाना मौसम शायरी [2020] - 2 line mausam shayari

❤ Romantic-Sard-Suhana-Funny 
[Mausam Shayari]


mausam shayari
mausam shayari 

रोमांटिक सुहाना मौसम शायरी - Mausam Status And Images


मौसम शायरी - हममे से हर किसी का कोई एक मौसम अत्यधिक प्रिय जरूर होता तो चाहे वह बारिश का मौसम हो या फिर सर्दी का मौसम हो। इनमे बिताया गया हर एक सुहाना पल आप सभी के लिए मेरे लिये एक यादगार पल होता है। इन्ही यादगार लम्हों को याद करते हुए आज में आपको कुछ इन्ही सुहाने पलों से जुडी मौसम शायरियां बताऊंगा। जो आपके इस सुहाने पलों को और मज़ेदार बनाएगी तो चलिए बातों के पन्नो का यहीं एन्ड करते हुआ अपना रुख करते है उन बेहतरीन 2 लाइन मौसम शायरियों की तरफ जिनके लिए आशा करूँगा की आपको पसंद आयें। 

💘 शायद ये आपके लिए है - रोमांटिक नज़र शायरी


suhana mausam shayari - सुहाना मौसम शायरी


सुहाने मौसम में दिल भी कहीं भटक जाता है 
उस गली में ही कहि फिर से दिल अटक जाता है 

⍞ suhana mausam me dil bhi bhatk jata ha
us gali me hi kahin fir se dil atak jata ha ⍞


सुहाना मौसम भी बिगड़ जाता है 
आँधियों के चलने से ...... 
धोखेबाज भी बदल जाते है 
धोखेबाजियों के चलने  से .... 


⍞SUHANA MAUSAM BHI BIGAD JATA HA
AANDHIYON KE CHALNE SE ......
DHOKHHEBAAJ BHI BADAL JATE HA
DHOKHHEBAAJIYON KE CHALNE SE.......⍞


suhana mausam shayari


अरे इतना भी मत सताओ  
मौसम सुहाना है...... 
थोड़े नखरे कम करो 
दूर क्यूँ हो ,थोड़ा पास आजाओ। 


⍞ARE ETNA BHI MAT SATAO
MAUSAM SUHAN HA....
THODE NKHHRE KAM KARO
DUR KYUN HO THODA PAAS AAJAO⍞


जमाने भर का गम अपने कंधो पर उठा रखा है 
नज़रों का कहर दिल में दबा रखा है 
अपने मौसम को तो तूने सुहाना बना रखा है 
हमारे मौसम को धुंए में जला रखा है 


⍞JAMANE BHAR KA GUM APNE KANDHON PAR UTHA RKHHA HA
NAZARON KA KHAR DIL ME DABA RAKHA HA
APNE MAUSAM KO TO TUNE SUHANA BNA RAKHA HA
HMARE MAUSAM KA DUNA ME JALA RAKHA HA⍞

आज मौसम ने मूड सुहावना बना रखा है 
चलो अंदर चलते है बेफ़िजूली बातों में क्या रखा है 


Thandi Mausam Shayari - ठंडी मौसम शायरी


नीचे गिरे पत्ते भी सुख जाया करते है 
सर्दी के मौसम में जोड़े भी रूठ जाया करते है  

⍞NICHE GIRE PATTE BHI SUKHHA JAYA KARTE HA
SARDI KE MAUSAM ME JODE BHI RUTH JAYA KARTE HA⍞



बेईमान मौसम से पूछो कुछ हरकत कर रहा है 
बताता नहीं क्या ...... 
ये मेरे हमसफर से डर रहा है 

⍞BAEMAN MAUSAM SE POCHHO KHUCH HARKAT KAR RHA HA
BTATA NHI KYA.....
YE MERE HAMSFR SE DAR RHA HA ⍞


इस सर्दी के मौसम ने भी बोहोत सताया है 
फिर तेरी यादों ने भी नींदो से हमें जगाया है 
ठन्डे मौसम में भी हमे जोरों से रुलाया है
अकेलेपन से मुझे मेरे मित्रों ने ही तो बचाया है 



भूली यादों को याद कर म आज रोया हूँ 
भूले जख्मो को आज फिर से म भिगोया हूँ 
तभी ठंडी के मौसम में भी लंबी चदर को तान सोया हूँ। 

⍞BHULI YAADON KO YAAD KAR ME AAJ ROYA HUN
BHULE JAKHMO KO AAJ FIR SE BHIGOYA HUN
TABHI THANDI KE MAUSAM ME BHI LANBI CHADAR TAAN SOYA HUN⍞


दिसंबर में मौसम भी कति प्यारा होता है 
होता ठंडा है मगर 
फिर भी सबका दुलारा होता है। 


⍞DECEMBER ME MAUSAM BHI KATI PYARA HOTA HA
HOTA THANDA HA MAGR
FIR BHI SABKA DULARA HOTA HA⍞


इस ठंडे मौसम की बाहर बन कर 
ठंडी में भी गर्मी की फुहार बनकर 
शुर मय जीवन में छनकार बनकर 
तेरी मोहोब्बत में फसा हूँ 
एक लाचार बनकर।

💘 आपके लिए कुछ है - चाँद शायरी हिंदी में 

2 line mausam shayari - 2 लाइन मौसम शायरी 


तेरे इंतजार का मजा ही कुछ और है 
अरे उसके आगे तो तेरे इस मौसम का मजा भी कमजोर है 

⍞TERE ENTJAR KA MAZA HI KUCHH OR HA
ARE USKE AAGE TO TERE ES MAUSAM KA MAZA BHI KAMZOR HA⍞


मस्त मौसम दिल में बहार लता है 
बिछड़े हुआ जोड़े को फिर से मिलता है 

⍞MAST MAUSAM DIL ME BAHAR LATA HA
BICHHDE HUA JODE KO FIR SE MILTA HA⍞


हँसाना नहीं बस रुलाना जानता है 
ये मौसम भी ना बस औरों को फसाना जानता है। 

⍞HASNA NHI BAS RULANA JANTA HA
YE MAUSAM BHI NA BAS ORON KO FSANA JANATA HA⍞


2 line mausam shayari


रंगीन मौसम भी यूँही छूट जाते है 
सच्चे रिश्ते भी पल में टूट जाते है 


⍞RANGIN MAUSAM BHI YUNHI CHHUT JATA HA
SACHE RISTE BHI PAL ME TUT JATE HA⍞


इस हसीं शाम ने मौसम बना रखा है 
वैसे पीता तो नहीं पर फिर भी ....... 
नशा पूरा चढ़ा रखा है।


मौसम की तरह बदलना तुम्ही ने सिखाया है 
तभी तो आज ये चाँद तेरे लिए नहीं....... 
तेरी दोस्त के लिए आया है 

⍞MAUSAM KI TRHA BADALNA TUMHI NE SIKHHAYA HA
TABHI TO AAJ YE CHAND TERE LIYE NHI....
TERI DOST KE LIYE AAYA HA⍞

चांद का इशारा है चाँदनी मौसम आपका नहीं बस ये सिर्फ हमारा है। 


Don't Forget This - DOSTI SHAYARI


Romantic Mausam Shayari - रोमांटिक मौसम शायरी 


मौसम शायराना अंदाज में कहता है 
तेरी जुल्फों की लहरहाट देख 
दिल मेरा यूँ डग मगा सा गया है 
तेरी नशीली आँखों का जहर 
इस दिल में समा सा गया है 
तेरी करीबियों का ये आलम 
दिल घबरा सा गया है 
कहना चाहते थे कुछ बाते 
हाय ...... मन शर्मा सा गया है 


इस सुहाने मौसम का थोड़ा एहतराम तो कर ले 
घर तेरे आयें है थोड़ा  इंतजाम तो कर ले 
इन झूठी बातों पर थोड़ा लगाम तू कर ले 
सोचेगा क्या इतना अरे ........ 
इंतजाम तो कर ले। 


रंगरलियां करते हुए इस मौसम से पूछो जरा 
मेरा महबूब के घर और गलियों का पता 
उनके अंदर के नेचर और फिलिंग का पता 
अरे मौसम रुक मत तू जल्दी बता 
मुझे लव है उन्हें क्या ये भी है पता 
प्यारे मौसम तू रुक मत चल जल्दी बता। 


Romantic Mausam Shayari



जाते मौसम से ज़बान पूछती 
कल फिर इसी अंदाज में लोट आओगे ना 
थोड़ा जल्दी नहीं पर देर से भी आ जाओगे ना 
थोड़ी मुश्किल होगी पर फिर चले आओगे ना 
अब कुछ बोल दो कल फिर से लोट आओगे ना 


तेरे चेहरे को देख दिल में सवाल होता है 
तेरी जुल्फों से भी हाय..... क्या कमाल होता है 
गलों से भी दिल में बवाल होता है 
पर तेर दिल को देख मुझको मलाल होता है 


मौसमी रंग भी कितना रंगीन होता है 
ठहरता है बस कुछ वक्त के लिए 
पर फिर भी ये मौसम हसीन होता है 


⍞MAUSAMI RANG BHI KITANA RANGIN HOTA HA
THARTA HA BAS KUCHH VAKT KE LIYE
PAR FIR BHI YE MAUSAM HASIN HOTA HA⍞


आज मौसम भी बड़ी बेईमानी कर रहा है 
खुद तो अच्छे से देख रहा है उन्हें 
पर म देखूं 
तो परेशानी कर रहा है। 


suhana mausam shayari



तेरी जुल्फों के साये में कई मौसम गुजरे है 
हम तो मर ही गए थे ..... 
लेकिन जिए तेरे उस मौसम के सहारे है 


⍞TERI JULFON KE SAYE ME KAI MUASAM GUJRE HA
HAM TO MAR HI GYE THE....
LEKIN JIYE TERE USAME MAUSAM KE SAHARE HA⍞


दूर तक छाए थे बादल और कहीं साया न था 
इस तरह बरसात का मौसम कभी आया न था।। 
 - क़तील शिफ़ाई


अरे बारिश का मौसम भी कुछ  बता रहा है 
खुले बाल कर उनका यूँ मेरी तरफ चले आना 
ओह अरे.......  मुझे शता रहा है। 

⍞ARE BARISH KA MAUSAM BHI KUCHH RHA HA
KHHULE BAAL KAR UNKA YUN MERI TARF CHALE AANA
OHH ARE......MUJHE SHTA RHA HA⍞


Funny Mausam Shayari - मज़ेदार मौसम शायरी 


इस मौसम ने सबको सताया है 
जो भीगा नहीं था ..... 
आज उसको भी भिगाया है 
कीचड़ में भिगाया है 
नाले में बहाया है 
इस मौसम ने सबको नचाया है 


इस मौसम से सब परेशान है 
नाक में झरना और झरने पर रुमाल 
ये सब इसी मौसम की तो पहचान है 


बगल वाली भाभी को देख कर कहता है 
मौसम को रंगीन बना रखा है 
फिगर को हसीन बना रखा है 
जी चाहता है पा लूँ तुझे म आज 
पर क्या करूं बीवी ने पति से ज्यादा 
मशीन बना रखा है। 

funny mausam shayari



 Shayari On Garmi Ka Mausam  - गर्मी का मौसम शायरी 


ऊपर से तो सूरज की गर्मी ने सता रखा है 
नीचे इस लड़की की अग्नि ने जला रखा है 


⍞UPAR SE TO SURAJ KI GARMI NE STA RKHA HA
NICHE ES LADKI KI AGNI NE JALA RKHA HA⍞


गर्मी वाले मौसमी मज़े 
ठंडे पानी से नहाने का मजा 
ठंडी कुल्फी को खाने का मज़ा 
निम्बू पानी को बनाने का मज़ा 
भरी गर्मी में बत्ती जाने का मज़ा 


गर्मी के मौसम का भी एक पल आता है 
जिसमे आधे कपड़े और ठंडे पानी का नल भाता है 

⍞GARMI KE MAUSAM KA BHI PAL AATA HA
JISAME AADHE KAPDE OR THANDE PANI KA NAL BHATA HA⍞


हँसाना नहीं बस रुलाना जनता है
हाय ये गर्मी का मौसम बस ... जलाना जानता है 


Garmi Ka Mausam

-

Last Line For Suhana Mausam Shayari 

अगर आपकी रोमांटिक ठंडी सुहानी 2 लाइन शायरी पर कोई टिपण्णी है या आप बेस्ट मौसम शायरी के बारे में हमें अपनी राय देना चाहते है तो कमेंट बॉक्स में लिंखे ताकि हम आपने कार्य की पहचान जान सके और भविष्य में और इनसे भी अच्छी रोमांटिक मौसम शायरी ला सके। आप हमें पसंद करते है तो आप फेसबुक ,इंस्टाग्राम ,टिवटर पर फॉलो कर सकते है। 

टिप्पणी पोस्ट करें

टिप्पणियां